मैं हिन्दी हूँ । (हिन्दी दिवस पर)

Rajesh Kumar Kaurav

रचनाकार- Rajesh Kumar Kaurav

विधा- कविता

मैं हिन्दी हूँ,
भारत की राजभाषा ।
सात दशक से खड़ी,
लेकर मन में एक अभिलाषा।
राष्ट्रभाषा का सपना,
पूरा होगा एक दिन ।
स्वतंत्रता की प्राप्ति,
पूरी नहीं मातृभाषा बिन ।
विदेशी शासन काल में,
तिरस्कार हुआ था भारी ।
पर अपने ही शासक अब,
फिरभी क्या है लाचारी ।
स्वाधीनता महा समर मे,
मैने भी बलिदान दिया है ।
प्रॉतवाद की तोड़ी सीमा,
पूरे भारत को साथ किया है ।
नेताजी,टैगोर,शास्त्री हो,
चाहे हो गॉधी,जवाहर लाल ।
राष्ट्र भाषा हिन्दी ही हो,
ऐसा था सबका ख्याल ।
पर कुत्सिक मानसिकता वालो ने,
ग्यान-उन्नति में बाधक पाया ।
अपने स्वार्थ सिद्ध करने,
संविधान अंग्रेजी में लिखवाया।
स्वदेश और स्वभाषा का,
जिनके मन मे स्वाभिमान नहीं ।
कहने भर को अपने है वे,
हिन्दुस्तानी होने का अधिकार नही ।
टूटी उम्मीदो को ढ़ॉढ़स देने,
अटल जी ,गुणगान किया ।
राष्ट्रसंघ की भरी सभा मे,
हिन्दी का जय जय कार किया ।
देखों, उन देशो को भी,
आजाद तुम्हारे साथ हुये।
अपनी अपनी मातृभाषा को,
अपनाकर प्रथम स्थान दिये।
क्या?पिछड गये वो आज,
अपने ग्यान और विग्यान मे ।
अरे!उन्हें सम्मान मिला है,
विकसितता के परिणाम में ।
जब भारत का सेवक ही बोले,
भाषा कोई विदेशी ।
झलक पड़ें अॉखों से अॉसू,
लगता ज़्यो हो परदेशी ।
बदलो, अपनी सोच,
मानसिक दासता छोडो़ ।
मातृभाषा को लो साथ,
बढ़ो, दुनिया को पीछे छोडो ।

राजेश कौरव सुमित्र

Sponsored
Views 35
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Rajesh Kumar Kaurav
Posts 30
Total Views 1.3k

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia