मैं भी एक इंसान हूँ

Rita Singh

रचनाकार- Rita Singh

विधा- कविता

न मैं दुर्गा , न मैं लक्ष्मी
न देवी और महान हूँ ,
नारी रूप में धरती पर
मैं भी एक इंसान हूँ ।
न अनोखी शक्ति मुझमें
न देवीत्व कोई समाया है ,
एक आम जन सा ही ईश्वर ने
मुझको भी इंसान बनाया है ।
मैं नहीं चाहती पूजी जाऊँ
क्यों देवी बनकर भोग लगाऊँ ?
बस चाहती हूँ इंसान रूप में
सभी सम्मान पुरुष सम पाऊँ।
सभी देशों में सभी धर्मों में
मानव समाज के सभी वर्गों में
कमजोर कभी न समझी जाऊँ ,
चाहत मेरी बस एक यही है
गर्भ से लेकर पूरे जीवन भर
इंसान के सारे हक मैं पाऊँ ।
न कोख में मरने का डर हो
न साँझ ढले चलने में भय हो ,
न माँ को चिंता कोई सताये
न सड़कों से कुनजर कोई आए
ऐसा सुखद समय बस आए
सब पौरुष मन पावन हो जाएँ।

डॉ रीता

बेहतरीन साहित्यिक पुस्तकें सिर्फ आपके लिए- यहाँ क्लिक करें

Views 59
इस पेज का लिंक-
Sponsored
Recommended
Author
Rita Singh
Posts 68
Total Views 2.5k
नाम - डॉ रीता जन्मतिथि - 20 जुलाई शिक्षा- पी एच डी (राजनीति विज्ञान) आवासीय पता - एफ -11 , फेज़ - 6 , आया नगर , नई दिल्ली- 110047 आत्मकथ्य - इस भौतिकवादी युग में मानवीय मूल्यों को सनातन बनाए रखने की कल्पना ही कलम द्वारा कुछ शब्दों की रचना को प्रेरित करती है , वही शब्द रचना मेरी कविता है । .

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia