मैं बेचारी

निहारिका सिंह

रचनाकार- निहारिका सिंह

विधा- अन्य

मैं बेचारी
हे कृष्ण ! तुम्हारी ।
मैं मीरा
तेरे दरस की प्यासी ।.

हे गिरधर !
हे नागर! कान्हा !
हे मेरे मनभावन कान्हा । ..
प्रेम भाव से तुम्हे बुलाऊँ
माखन मिश्री तुम्हे खिलाऊँ ।..
हे गोकुल घट, वन – वन वासी
दरसन दे दो , मैं अभिलाषी ।
मेरे घनश्याम
मैं तुझपर वारी ।..
तकती अखियाँ
राह तुम्हारी ।…

मैं बेचारी
हे कृष्ण ! तुम्हारी । ….

निहारिका सिंह

Sponsored
Views 11
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
निहारिका सिंह
Posts 14
Total Views 202
स्नातक -लखनऊ विश्वविद्यालय(हिन्दी,समाजशास्त्र,अंग्रेजी )बी.के.टी., लखनऊ ,226202।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia