“मैं प्रेम हूँ”

सन्दीप कुमार 'भारतीय'

रचनाकार- सन्दीप कुमार 'भारतीय'

विधा- कविता

"मैं प्रेम हूँ"

प्रेम से भरा है मेरा हृदय,
प्रेम करता हूँ,
प्रेम लिखता हूँ,
प्रेम ही जीता हूँ,
मुझसे नफरत करो,
मेरा क्या,
मुझे प्रेम ही आता है,
मैं वही दे पाउँगा,
दिल में जगह देता हूँ,
दिमाग में बैठाना नहीं भाता,
प्रेम से जीतना चाहता हूँ,
मैं प्रेम स्वरुप हूँ,
मैं प्रेम का स्वरुप हूँ,
मैं प्रेम हूँ, हाँ मैं प्रेम हूँ

प्रेम बसा है मुझ में
मैं प्रेम में बसा हूँ
प्रेम मेरा प्रतिरूप है
मैं प्रेम का प्रतिरूप हूँ
मैं प्रेम हूँ हाँ मैं प्रेम हूँ

"सन्दीप कुमार"

Views 111
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
सन्दीप कुमार 'भारतीय'
Posts 62
Total Views 5.9k
3 साझा पुस्तकें प्रकाशित हुई हैं | दो हाइकू पुस्तक है "साझा नभ का कोना" तथा "साझा संग्रह - शत हाइकुकार - साल शताब्दी" तीसरी पुस्तक तांका सदोका आधारित है "कलरव" | समय समय पर पत्रिकाओं में रचनायें प्रकाशित होती रहती हैं |

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia