मैं नारी हूँ

डी. के. निवातिया

रचनाकार- डी. के. निवातिया

विधा- कविता

मैं नारी हूँ

जग जननी हूँ, जग पालक हूँ
मैं नारी हूँ, न किसी से हारी हूँ
निःशेष लोक जन्मा मेरे उर से
फिर भी मैं ही कोख में मारी हूँ !!
जग जननी हूँ, जग पालक हूँ , मैं नारी हूँ, न किसी से हारी हूँ !!
!
सम्पूर्ण कर्म में रही अग्रणी
न जानू क्यों देवो की दासी हूँ
वज़्र घात से सहती आधात
पर मतत्व की सर्वदा प्यासी हूँ !!
जग जननी हूँ, जग पालक हूँ , मैं नारी हूँ, न किसी से हारी हूँ !!
!
देव भूमि के हवन कुंड में
अनन्त बार गई वारी हूँ
बिठाया पूजा की वेदी पर
अंतत: व्यसन पर उतारी हूँ !!
जग जननी हूँ, जग पालक हूँ , मैं नारी हूँ, न किसी से हारी हूँ !!
!
शिक्षित हुआ समग्र समाज
नही फिर भी ह्रदय धारी हूँ
सिंधुतल से चन्द्रतल तक
नर संग पदचिन्ह उतारी हूँ !!
जग जननी हूँ, जग पालक हूँ , मैं नारी हूँ, न किसी से हारी हूँ !!
!
शिकार हूँ कुटिल मानसिकता का
जन मानष के त्रिस्कार की मारी हूँ
मिटा न पाया कोई मेरा अस्तित्व
रही सर्वदा इस सृष्टि पर भारी हूँ !!
जग जननी हूँ, जग पालक हूँ , मैं नारी हूँ, न किसी से हारी हूँ !!
!
जग जननी हूँ, जग पालक हूँ
मैं नारी हूँ, न किसी से हारी हूँ
निःशेष लोक जन्मा मेरे उर से
फिर भी मैं ही कोख में मारी हूँ !!
जग जननी हूँ, जग पालक हूँ , मैं नारी हूँ, न किसी से हारी हूँ !!
!
!
!
डी. के. निवातिया

*******************

Views 240
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
डी. के. निवातिया
Posts 168
Total Views 20.2k
नाम: डी. के. निवातिया पिता का नाम : श्री जयप्रकाश जन्म स्थान : मेरठ , उत्तर प्रदेश (भारत) शिक्षा: एम. ए., बी.एड. रूचि :- लेखन एव पाठन कार्य समस्त कवियों, लेखको एवं पाठको के द्वारा प्राप्त टिप्पणी एव सुझावों का ह्रदय से आभारी तथा प्रतिक्रियाओ का आकांक्षी । आप मुझ से जुड़ने एवं मेरे विचारो के लिए ट्वीटर हैंडल @nivatiya_dk पर फॉलो कर सकते है. मेल आई डी. dknivatiya@gmail.com

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia