“मैं तो बस किसान हूँ साहब”

ज़ैद बलियावी

रचनाकार- ज़ैद बलियावी

विधा- कविता

न हिन्दू न मुसलमान हूँ साहब,
मैं तो बस किसान हूँ साहब.!
खेत सूखे है बच्चे भूखे है,
ग़मो का मारा इंसान हूँ साहब,,
मैं तो बस किसान हूँ साहब.!
लोग कहते है भारत की शान हो तुम,
पर मैं तो ढलती सूरज सी शाम हूँ साहब,,
मैं तो बस किसान हूँ साहब..!
खेतो मे कटता दिन,धूप मे जलता बदन,
फिर भी कर्ज़ मे डूबा इंसान हूँ साहब,,
मैं तो बस किसान हूँ साहब..!
ये अखबारो की सुर्खिया,खबरे मेरे मौत की,
यही मेरी नई पहचान है साहब,
मैं तो बस किसान हूँ साहब..!

(( ज़ैद बलियावी ))

Sponsored
Views 136
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
ज़ैद बलियावी
Posts 20
Total Views 2.7k
नाम :- ज़ैद बलियावी पता :- ग्राम- बिठुआ, पोस्ट- बेल्थरा रोड, ज़िला- बलिया (उत्तर प्रदेश). लेखन :- ग़ज़ल, कविता , शायरी, गीत! शिक्षण:- एम.काम.

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia