मैं तुम्हारी हूँ चिरैया….

Ananya Shree

रचनाकार- Ananya Shree

विधा- गज़ल/गीतिका

😰करुण गीतिका😰
मैं तुम्हारी हूँ चिरैया, नेह मुझपे वारना!
गर्भ में मैं पल रही हूँ, माँ मुझे मत मारना!
जन्म जब पाऊँ धरा पे, नाम ऊँचा मैं करूँ!
गर्व तुमको मात होगा, मान कुल का जब धरूँ!
पूछती इक प्रश्न तुमसे, माँ कभी बनती नहीं।
यदि तुम्हें भी मार नानी, अरु कभी जनती नहीं।
जो किया अहसान उसको, शीश पर अब धार लो!
गर्भ में मुझको जगह दो, जिंदगी उपहार दो।
अनन्या "श्री"

Views 16
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Ananya Shree
Posts 10
Total Views 240
प्रधान सम्पादिका "नारी तू कल्याणी हिंदी राष्ट्रीय मासिक पत्रिका"

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia