मैं जाऊं कहाँ…..

रीतेश माधव

रचनाकार- रीतेश माधव

विधा- कविता

सोचता हूँ कभी कभी….

बचपन में…वो हमारा मोहल्ला था
और वे थी हमारे मोहल्ले की सडकें
सडकें भी कहाँ?
पगडंडियाँ!
टूटी फ़ूटी, उबर ख़ाबर
पर उन पर चल कर हम
न जाने कहाँ कहाँ पहुँच जाते थे
दोस्तों , रिश्तेदारो , नातेदारों
और न जाने किनके किनके घरों तक

अब यहाँ की सडकें बहुत सुन्दर है
चौडी चौडी, एक दम चिकनी
मगर इन पर चल कर
मैं जाऊं कहाँ

Views 56
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
रीतेश माधव
Posts 12
Total Views 433

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia