मैं ख़ुश्बू हूँ बिखरना चाहता हूँ

चन्‍द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’

रचनाकार- चन्‍द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’

विधा- गज़ल/गीतिका

तू जाने है के मरना चाहता हूँ?
मैं ख़ुश्बू हूँ बिखरना चाहता हूँ।।

अगर है इश्क़ आतिश से गुज़रना,
तो आतिश से गुज़रना चाहता हूँ।

न सह पाता हूँ ताबानी-ए-रुख़, पर
तेरा दीदार करना चाहता हूँ।

सरो सामान और अपना आईना दे!
मैं भी बनना सँवरना चाहता हूँ।

शराबे लब से मुँह मोड़ूं तो कैसे?
न मै पीना वगरना चाहता हूँ।

ऐ ग़ाफ़िल तेरा जादू बोले सर चढ़,
तेरे दिल में उतरना चाहता हूँ।।

-‘ग़ाफ़िल’

Views 39
Sponsored
Author
चन्‍द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’
Posts 50
Total Views 409
मैं ग़ाफि़ल बदनाम
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia