मैं ख़ुश्बू हूँ बिखरना चाहता हूँ

चन्‍द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’

रचनाकार- चन्‍द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’

विधा- गज़ल/गीतिका

तू जाने है के मरना चाहता हूँ?
मैं ख़ुश्बू हूँ बिखरना चाहता हूँ।।

अगर है इश्क़ आतिश से गुज़रना,
तो आतिश से गुज़रना चाहता हूँ।

न सह पाता हूँ ताबानी-ए-रुख़, पर
तेरा दीदार करना चाहता हूँ।

सरो सामान और अपना आईना दे!
मैं भी बनना सँवरना चाहता हूँ।

शराबे लब से मुँह मोड़ूं तो कैसे?
न मै पीना वगरना चाहता हूँ।

ऐ ग़ाफ़िल तेरा जादू बोले सर चढ़,
तेरे दिल में उतरना चाहता हूँ।।

-‘ग़ाफ़िल’

Sponsored
Views 71
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
चन्‍द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’
Posts 50
Total Views 638
मैं ग़ाफि़ल बदनाम

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia