मैं औऱ वो

Rishab Shukla

रचनाकार- Rishab Shukla

विधा- अन्य

मै नजरो से नजरे मिलाता रहा
वो नजरो से नजरे चुराती रही

मै उसे देखकर यू मचलता रहा
वो मुझे देखकर मुस्कुराती रही

मैं हुस्न की अदा पर मरता रहा
वो मुझे मोहब्बत में फसाती रही

मैं दिन भर उसे याद करता रहा
वो रात भर मुझे याद आती रही

मैं खुद की निगाहों से बचता रहा
वो दिल पर हुकूमत चलाती रही

मैं चेहरे को चाँद समझता रहा
वो गगन का चाँद दिखाती रही

मै खुद रुठकर मान जाता रहा
वो सच मानकर रुठ जाती रही

मैं सिद्दत से उसको बुलाता रहा
वो ख़ुशी से मुझे छोड़ जाती रही

मैं उससे इधर वफाई करता रहा
वो मुझे उधर बेवफा बताती रही

मै अपनी मोहब्बत यूँ लिखता रहा
वो वही गीत महफ़िल में गाती रही

Views 14
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Rishab Shukla
Posts 3
Total Views 29
मै बाराबंकी (उत्तर प्रदेश) का निवासी हूँ। मै स्नातक नर्सिंग का छात्र हू। गीत /छंद/मुक्तक/गजल एवं गद्य लेख मेरी विधा है।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia