मैं और मेरा भगवान

S Kumar

रचनाकार- S Kumar

विधा- कविता

मैं उस भगवान को नहीं मानता जो किसी मंदिर या मजार में एक पत्थर में रूप लिए बैठा है ।
मैं उस भगवान को मानता हूँ जिसनें मुझे ये दुनियां दिखाई, जिसने मुझे जन्म दिया, मुझे पाला ।

मैं उस भगवान को नहीं मानता जो सिर्फ कुछ किताबों या ग्रन्थों तक ही सिमित है ।
मैं उस भगवान को मानता हूँ जिसनें मुझे जिंदगी जीना सिखाया, मुझे ज्ञान का पाठ पढ़ाया, हर अच्छे बुरे में मुझे फर्क बताया ।

मैं उस बात को धर्म का ज्ञान नहीं मानता जो धर्म के नाम पर, जात के नाम पर ये ऊंच नीच का वहम लोगों में फैलाता है ।
मैं उसे ज्ञान मानता हूँ जो बड़े-छोटे की इज्ज़त करनी सिखाता है । जो बड़ों के आगे झुकना और छोटों से प्यार करना सिखाता है ।

मैं उन लोगों को भगवान का भक्त्त नहीं मानता जो धर्म स्थलों पर जाकर मूर्ति मजारों पर भोग और चादरें चढ़ाते हैं ।
मैं उन लोगों को भक्त्त और इंसान मानता हूँ जो भूखे को रोटी और नंगे को कपड़ा देने का भाव मन में रखते हैं ।

सच कहूँ मैं तो उस भगवान को मानता हूँ,
जो मुझमें बसा है,
जो तुझमें बसा है ।
जो मेरी मेहनत का फल कहीं खोने नहीं देता ।
जो मुझे किसी भी मोड़ पर,
किसी भी हालात में गलत होने नहीं देता ।
मैं तो उस भगवान को मानता हूँ,
जिसका रंग ना तो केसरिया है, ना हरा है ।
ना सफ़ेद है, ना नीला है ।
भगवान तो उसी में बसा है जिसे इंसान में इंसान मिला है ।

इंसान गलतियों का पुतला है,
इससे अक्सर भूल हो जाती है ।
हम जब मैं बन जाते हैं,
तो अक्सर चूक हो जाती है ।
मेरा भी खून लाल है,
तेरा भी खून लाल है ।
हमें जो अलग करता है,
वो धर्म और भगवान है ।
नासमझ कुमार देख सबका एक जैसा चाम है ।
ना भटक तू कहीं भी,
तेरा गाँव भगवती पुर ही तेरा धाम है ।

Views 14
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
S Kumar
Posts 6
Total Views 133
मैं वो लिखता हूँ, जो मैं महसूश करता हूँ, जो देखता हूँ, कभी कभी अपने ही शब्दों में खुद को ढूंढ़ता हूँ, हर बार कुछ बेहतर की कोशिश करता हूँ, बस कुछ ऐसा ही हूँ मैं, ठहरता नहीं हूँ, मैं चलता रहता हूँ ।। कुमार हरियाणा की माटी से जुड़ा एक कलाकार लिखने के साथ साथ अभिनय और निर्देशन में भी रूचि है ।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia