मैं और तुम

अमित मौर्य

रचनाकार- अमित मौर्य

विधा- गीत

चलो तुम गीत गाओ, मै साज बन जाऊं,
चलो तुम शब्द बनों मैं आवाज बन जाऊं |

थे किये वादे हमने वो मिलकर हम निभाएंगे,
जिंदगी है गीत प्यार का मिलकर दोनो गाएंगे,
चलो तुम हमराज बनों मै राज बन जाऊं |

चलो तुम गीत गाओ……..

हर कदम हो तेरी राह में तू मंजिल बन जा,
तेरी खातिर जीवन मेरा दिल मे तू बस जा,
तू बन जा दिल मेरा मै धड़कन बन जाऊ,

चलो तुम गीत गाओ……..

चाहे रस्ता रोकें पर्वत या दरिया हमको टोके,
हम न रुकेंगे किसी के रोके हवा के हम हैं झोके,
तुम बन जाओ वेग मेरा मै पवन बन जाऊं

चलो तुम गीत गाओ, मै साज बन जाऊं,
चलो तुम शब्द बनों मैं आवाज बन जाऊं |

अमित मौर्य

Views 5
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
अमित मौर्य
Posts 8
Total Views 128
मै अमित मौर्य, निवास लखनऊ निवासी-लखीमपुर जिला शौक- मीचिस की तीलियों से घर व कलाकृतियां बनाना, कविता, गजल, दोहे, व अन्य विधाओं में लिखना, पढना, व खाना बनाना | उम्र- 29 वर्ष

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia