मेरे साँवरे तुम

nishant madhav

रचनाकार- nishant madhav

विधा- गज़ल/गीतिका

मैं टूटा हुआ हूँ, मैं बिखरा हुआ हूँ,
मुझे अब संभालो, मेरे साँवरे तुम.

भंवर मे मैं देखो, धसा जा रहा हूँ,
यहाँ से निकालो, मेरे साँवरे तुम.

मैं दीपक हूँ देखो, बुझा जा रहा हूँ,
मेरी लौ बचालो, मेरे साँवरे तुम.

जमाने का मैं तो, सताया हुआ हूँ,
शरण मे लगा लो, मेरे साँवरे तुम.

©निशान्त माधव

Views 16
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
nishant madhav
Posts 8
Total Views 70

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia