मेरे सनम

DESH RAJ

रचनाकार- DESH RAJ

विधा- कविता

मेरे सनम, तेरी मोहब्बत ने मुझे एक आशिक बना दिया,
तेरी एक नज़र ने मुझे जिंदगी जीने का रास्ता दिखा दिया I

तेरे नैनो ने मुझे दरिया के भंवर में डूबने से बचा लिया ,
तेरे चेहरे के नूर ने मेरी कामयाबी का रास्ता बना दिया ,
तेरे प्यार ने रेगिस्तान में एक प्यासे को पानी दे दिया ,
मेरे तिनके से जीवन को सागर का किनारा दिखा दिया I

मेरे सनम, तेरी मोहब्बत ने मुझे एक आशिक बना दिया ,
तेरी एक नज़र ने मुझे जिंदगी जीने का रास्ता दिखा दिया I

मेरी चाहत तुझसे लेकिन तेरी बेपनाह चाहत किसी और से ,
मेरी किस्मत तेरे हाथों में पर तेरी मोहब्बत किसी और से ,
मेरी इबादत तुझसे पर तेरी बेइंतहा इबादत है किसी और से ,
मेरी जन्नत तेरे खूबसूरत कदमों में, तेरा प्यार किसी और से I

मेरे सनम, तेरी मोहब्बत ने मुझे एक आशिक बना दिया ,
तेरी एक नज़र ने मुझे जिंदगी जीने का रास्ता दिखा दिया I

अब तो सज गई प्यारी सेज हमारी विदाई को हूँ तैयार ,
मोहब्बत तेरी करा सकती मुझे इस विशाल सागर से पार ,
सुंदर नगरी में डोली लेकर खड़े है मेरी नय्या के पहरेदार ,
“राज” पकड़ ले गुरु चरणों को वही लगायेंगे तेरा बेड़ा पार I

मेरे सनम, तेरी मोहब्बत ने मुझे एक आशिक बना दिया ,
तेरी एक नज़र ने मुझे जिंदगी जीने का रास्ता दिखा दिया I

देशराज “राज”

Sponsored
Views 52
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
DESH RAJ
Posts 23
Total Views 2.5k

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia