“मेरे पिता”

ज़ैद बलियावी

रचनाकार- ज़ैद बलियावी

विधा- कविता

होश हम अपने खोने लगे थे,
सोच कर ये रोने लगे थे!
थामकर उंगलिया चलना सिखाया जिसने मुझे,
जब वो दुनिया से रुक्सत होने लगे थे!!
कैसे सहा जाता वो ग़म,
जब टूटकर बिखरे थे हम!
बचपन मे कन्धों पर जिसने घुमाया मुझे,
जब कन्धों पर हम उन्हें ले जाने लगे!!
आँखो से आँसू फिर आने लगे,
जब उनके सिखाये दुरुद जनाज़े मे आने लगे!
उनके सिखाये कल्मे-दरुद मेरे ओठो पर आने लगे,
जब लोग उन्हें कब्र मे लिटाने लगे!!
होश अपने खोने लगे थे,
सोचकर ये रोने लगे थे!
थामकर उंगलिया चलना सिखाया जिसने मुझे,
जब छोड़कर उन्हें घर हम आने लगे थे!!

((ज़ैद बलियावी))

Sponsored
Views 37
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
ज़ैद बलियावी
Posts 20
Total Views 2.7k
नाम :- ज़ैद बलियावी पता :- ग्राम- बिठुआ, पोस्ट- बेल्थरा रोड, ज़िला- बलिया (उत्तर प्रदेश). लेखन :- ग़ज़ल, कविता , शायरी, गीत! शिक्षण:- एम.काम.

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia