मेरे देश का किसान

प्रतीक सिंह बापना

रचनाकार- प्रतीक सिंह बापना

विधा- कविता

गर्मियों की ढलती शाम को
उसके बदन पर जमी मिट्टी
कपड़ो से कुछ साफ़ हुई सी दिखती है

हाथ उसके भूरे काले
जैसे की पेड़ के तने से
लटकी हुई शाखें लगती है

काले सफ़ेद से बाल उसके
सिर पर बिखरे हुए कुछ ऐसे
कुछ हिस्से मिट्टी से सने कंधों पर
टिके हुए से लगते हैं

एक फटा हुआ सा कुर्ता
उसके गठीले बदन को
ढकने को कोशिश कर रहा है

नंगे पैरों से खेतों में चलता हुआ
मिट्टी से पैरों को रंगता हुआ
कमर पर बंधे गमछे से
चेहरे के पसीने को पोंछ रहा है

आकाश की तरफ टकटकी लगाए
बादलों में बारिश तलाशता
हर साल की तरह इस साल भी
हैरान, निराश, परेशान
मेरे देश का किसान

–प्रतीक

Views 17
Sponsored
Author
प्रतीक सिंह बापना
Posts 27
Total Views 592
मैं उदयपुर, राजस्थान से एक नवोदित लेखक हूँ। मुझे हिंदी और अंग्रेजी में कविताएं लिखना पसंद है। मैं बिट्स पिलानी से स्नातकोत्तर हूँ और नॉएडा में एक निजी संसथान में कार्यरत हूँ।
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia