मेरी जेब में….. (लघु कथा)

हरीश लोहुमी

रचनाकार- हरीश लोहुमी

विधा- लघु कथा

मेरी जेब में…..
*********************************************
बचपन में शम्भू चाचा का बेटा दीपू , मेरा अजीज दोस्त था । एक दिन मैं दीपू को ढूंढते-ढूंढते उसके घर पहुँचा ही था कि शम्भू चाचा दिखाई पड़ गए । मैंने शम्भू चाचा से पूछा- चाचा जी ! दीपू कहाँ है ?
शम्भू चाचा शायद किसी जरूरी काम में व्यस्त थे उन्होने मात्र हाथ के इशारे से ही बताया कि उन्हें नहीं पता । मैं भी कहाँ मानने वाला था मैंने दुबारा कुछ ज्यादा ही ऊँची आवाज में पूछ लिया – दीपू कहाँ है चाचा जी !

शायद दीपू के बारे में मेरे दुबारा पूछने से उनके कार्य में कुछ व्यवधान हुआ हो, उन्होने मुझसे भी ऊंची आवाज में भौहें चढ़ाकर कहा- "मेरी जेब में !"

मेरे जिस मुँह ऊंची आवाज निकली थी, उस पर अब उतना ही बड़ा ताला लटक गया था । अब मेरे पास पूछने के लिए कुछ भी नहीं बचा था ।

*********************************************
हरीश लोहुमी , लखनऊ (उ॰प्र॰)
*********************************************

Views 47
Sponsored
Author
हरीश लोहुमी
Posts 24
Total Views 2k
कविता क्या होती है, नहीं जानता हूँ । कुछ लिखने की चेष्टा करता हूँ तो फँसता ही चला जाता हूँ । फिर सोचता हूँ - "शायद यही कविता हो जो मुझे रास न आ रही हो" . कुछ सामान्य होने का प्रयास करता हूँ, परन्तु हारे हुए जुआरी की तरह पुनः इस चक्रव्यूह में फँसने का जी करता है ।
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia