मेरी ग़ज़ल के दो शेर

Shri Bhagwan Bawwa

रचनाकार- Shri Bhagwan Bawwa

विधा- गज़ल/गीतिका

तेरे शहर में रिश्तो का कोई सम्मान नहीं होता ,
मेरे गांव की तरह मेहमान, भगवान नहीं होता ।।
अपने हाथों से लिखते हैं तकदीर- ऐ -इबारत,
हम गरीबों की किस्मत में, वरदान नहीं होता ।।

Views 6
इस पेज का लिंक-
Author
Shri Bhagwan Bawwa
Posts 18
Total Views 371

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia