मेरी कविता…. ।। अमीरी और गरीबी ।।

ishwar jain

रचनाकार- ishwar jain

विधा- मुक्तक

अमीरी
और
गरीबी
समाज के दो पहलू
तस्वीर के दो रंग
श्वेत
और
श्याम ।
एक ओर
ऐश्वर्य तो
दूसरी ओर
अभाव –
मगर
दोनों ही पीड़ित
एक को अजीर्ण है
और
दूसरे को एनेमिया ।
नदी के दो किनारों की तरह
एक होकर भी
अलग अलग हैं
अपना अपना अस्तित्व लिए ।
(ईश्वर जैन, उदयपुर)

Views 6
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
ishwar jain
Posts 7
Total Views 54

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia