. . . मेरी इक गज़ल

Pradipkumar Sackheray

रचनाकार- Pradipkumar Sackheray

विधा- गज़ल/गीतिका

ऐ मेरी ज़ानु , मैं क्यां ज़ानु ? तु युं हसती क्यूं हैं ?
गैर झुठी मुस्कुराहट पे युं फ़सती क्यूं हैं ?

हमने तो फ़ुलों की रंगीन सेज़ सज़ायी थी ,
ऐ रात अब काली नागिनसी ड़सती क्यूं हैं ?

इक – इक इट ज़ोड़ी प्यारे ताज़महल की ,
अब सुनसान मशान में मेरी बस्ती क्यूं हैं ?

बेशक बसाना था बहकी – बहकी बाहों में ,
अब इन आँख़ों में लहरों की यूं मस्ती क्यूं हैं ?

उससे ही सुना था , प्यार में सौंदा नहीं होता ;
तो अब दिल की किंमत इतनी सस्ती क्यूं हैं ?

उसे छुआँ तो हंगामा , युं ना हूआँ तो हंगामा ;
वो मासूम फ़िर , गैर आगोश कसती क्यूं हैं ?

कसम ख़ाई साहिल की , सौगंध मंजिल की ;
मज़धार में मेरी तुटी – फ़ुटी युं कश्ती क्यूं हैं ?

ख़ता थी , उस हँसी को मुस्कान समझ बैठे ;
फ़िर भी , वो संगदिल दिल में बसती क्यूं हैं ? . . .

– शायर : प्रदिपकुमार साख़रे
+917359996358.

Views 2
Sponsored
Author
Pradipkumar Sackheray
Posts 8
Total Views 257
Pr@d!pkumar $ackheray (The Versatile @rtist) : - Writer/Poet/Lyricist, Mimicry Artist, Anchor, Singer & Painter. . .
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia