मेरी अंबे माता

Rita Yadav

रचनाकार- Rita Yadav

विधा- कविता

मन का मैंने दीप जलाया ,
श्वास श्वास विश्वास है l
आएगी मेरी अंबे माता,
दिल में दृढ़ विश्वास है l

राह मां की तकते नैना ,
भक्तों का आज उपवास है l
आएगी मेरी अंबे माता,
दिल में जगी इक आस है l

महक रहा है दिल का आंगन ,
फल फूल की बरसात है l
आएगी मेरी अंबे माता ,
मां का आने का अहसास है l

आ गई है मां हमारे घर ,
मौका भी कुछ खास है l
महा नवरात्रि का पर्व है l
दिल में बड़ा उल्लास है l

रीता यादव

Sponsored
Views 30
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Rita Yadav
Posts 37
Total Views 1.2k

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia