मेरा हमदम आज…..

Tejvir Singh

रचनाकार- Tejvir Singh

विधा- गज़ल/गीतिका

🌹🌻 ग़ज़ल 🌻🌹

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

मेरा हमदम आज मुझको वो निशानी दे गया।
टूटती साँसों को जैसे ज़िंदगानी दे गया।

प्यार का प्यासा पथिक मरुथल में था भटका हुआ।
झील-सी आँखें मिला कर शादमानी(ख़ुशी) दे गया।

आस का सागर हिलोरें दिल में यूँ लेने लगा।
कोई आकर ज्वार-सा उसको रवानी दे गया।

मुस्कुराई रात बनके रातरानी अधखिली।
नैन में बसके कई यादें सुहानी दे गया।

राज़ के पर्दे हटाकर बो गया कुछ ख़्वाब भी।
होंठ होठों से मिला नूतन कहानी दे गया।

सुरमयी-सी साँझ में रतनार-से नैना हुए।
भर मुझे आगोश में दौलत रूहानी दे गया।

ये ग़ज़ल अब जिंदगी की दास्तां होने लगी।
गुनगुना कर वो इसे फिर धुन पुरानी दे गया।

प्यार के इक *तेज़* झोंके में
ढहा मेरा क़िला
जाते-जाते मेरे हक़ में वो बयानी दे गया।

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹
तेजवीर सिंह "तेज"

Views 4
Sponsored
Author
Tejvir Singh
Posts 27
Total Views 157
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia