### मेरा कवि मन कहता है……

दिनेश एल०

रचनाकार- दिनेश एल० "जैहिंद"

विधा- गीत

#### मेरा कवि मन कहता है….

@ दिनेश एल० "जैहिंद"

किसी मजलूम की आवाज़ बनकर
उसकी आवाज़ दूर-दूर पहुँचाऊँ ।
किसी लाचार, बेबस, पीड़िता का
बनकर मैं मसीहा हक़ दिलवाऊँ ।
मेरा मन अब तरसता है……
मेरा कवि मन कहता है……

किसी असहाय कृषक का बनकर
सहारा उसकी खुशियाँ लौटाऊँ ।
किसी अनाथ को सहारा मैं देकर
उसका मददगार अब बन जाऊँ ।
मेरा ईमान ये कहता है……
मेरा कवि मन कहता है …..

इन गीत-ओ-ग़ज़लों में मैं अब तो
उनकी पीड़ा समाज को दिखाऊँ ।
उनके ही दुख-ओ-दर्द की कहानी
बनाकर मैं सरकार को बतलाऊँ ।
मेरा ज़मीर ये कहता है……
मेरा कवि मन कहता है……

जो मजबूर, बेसहारा और बीमार हैं
उन दीन-हीनों की आवाज़ हो जाऊँ ।
जो कमज़ोर, नि:सहाय, दीनदुखी हैं
उनकी खुशियों का अंदाज़ हो जाऊँ ।
मेरा रोम-रोम कहता है…….
मेरा कवि मन कहता है…….
मेरा कवि मन कहता है…….

===============
दिनेश एल० “जैहिंद”
08. 06. 2017

Views 2
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
दिनेश एल०
Posts 76
Total Views 613
मैं (दिनेश एल० "जैहिंद") ग्राम- जैथर, डाक - मशरक, जिला- छपरा (बिहार) का निवासी हूँ | मेरी शिक्षा-दीक्षा पश्चिम बंगाल में हुई है | विद्यार्थी-जीवन से ही साहित्य में रूचि होने के कारण आगे चलकर साहित्य-लेखन काे अपने जीवन का अंग बना लिया और निरंतर कुछ न कुछ लिखते रहने की एक आदत-सी बन गई | फिर इस तरह से लेखन का एक लम्बा कारवाँ गुजर चुका है | लगभग १० वर्षों तक बतौर गीतकार फिल्मों मे भी संघर्ष कर चुका,,

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia