में भी कुछ करना चाहता हु

pratik jangid

रचनाकार- pratik jangid

विधा- लेख

में भी कुछ करना चाहता हु , इक हुनर में भी सीखना चाहता हु, कुछ बंदिशे मुझे रोके रखती हे बस इन बंदिशों से निकलना चाहता हु, में भी इन रास्तो पर चलकर कुछ करना चाहता हु काबिलियत के लिए इक हुनर में भी सीखना चाहता हु , by pratik jangid 01-10-2016

इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
pratik jangid
Posts 18
Total Views 335

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia