[[ मुहब्बत के फ़क़त हमने , कई महताब देखे है ]]

Komal Gupta

रचनाकार- Komal Gupta

विधा- मुक्तक

⚛👉

मुहब्बत के फ़क़त हमने , कई महताब देखे है
कहे कुछ अनकहे से , मैंने भी जज़्बात देखे है

किसी ने भी नही समझा कभी हमको फ़क़त इतना
कँवल कोमल सी आँखों ने बहुत से ख़्वाब देखे है

कोमल गुप्ता "रौनक"

Sponsored
Views 49
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Komal Gupta
Posts 2
Total Views 49
कोमल गुप्ता " रौनक़ " बेनीमाधवगंज जिला - रायबरेली कवितायेँ /मुक्तक/ग़ज़ल लेखन

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia