मुहब्बत की बारिश

Govind Kurmi

रचनाकार- Govind Kurmi

विधा- कविता

जिस बारिश के लिये हम कब से तरस रहे हैं ।

मुहब्बत के वो बादल हर दिल पर बरस रहे हैं ।

घूम फिर कर हमारी नजरें जिन पर अटक रहीं हैं ।

किसी ना किसी भंवरे संग वो भी मटक रहीं हैं ।

कई भीगे इस बारिश में तो कई इसमें डूबे हैं ।

हम तो कब से प्यासे इस वीराने में सूखे हैं ।

शायराना अंदाज में जब किसी को इकरार ऐ इश्क सुनाया ।

जबाब मिला बस यही और कितनों पर ये पैंतरा आजमाया ।

कोई तो होगी क्योंकि है यह रब की कारीगरी ।

मिलेगी हमको हमराही जो करेगी हमारी बराबरी ।

हमारे इस वीराने में जब कोई पतझड़ बनकर आयेगी ।

मौसम सारा झूमेगा दिल के हर कोने में हरियाली छायेगी ।

सारी हया की रस्में कसमें तोड़ आयेगी ।

हमारी खातिर वो दुनिया छोड़ आयेगी ।

हमसे मिलने के लिये वो हर दीवारें फाड़ आयेगी ।

कसम से

बारिश तो क्या रेगिस्तान में भी बाढ़ आयेगी ।

Sponsored
Views 92
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Govind Kurmi
Posts 38
Total Views 3.2k
गौर के शहर में खबर बन गया हूँ । १लड़की के प्यार में शायर बन गया हूँ ।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia