मुश्किलों को नाकाम करना..

शालिनी साहू

रचनाकार- शालिनी साहू

विधा- गज़ल/गीतिका

हर पहलू पर काम करना
परेशानियों को हमेशा नाकाम करना
.
मिल जाये गर समन्दर में मोती
अपनी हसरतों को दिल से सलाम करना!
.
संघर्ष की दुनियाँ है परेशान मत होना
मुश्किलों को अपनी सरेआम न करना!
.
निर्भयता से कदम बढ़ाते रहना सदैव
हर किसी को ये खत-पैगाम करना!
.
चाहता हूँ "शालू"रुकूँ नहीं सफर में
सजदे की हर दुवा मेरेे नाम करना!
.
शालिनी साहू
ऊँचाहार, रायबरेली(उ0प्र0)

बेहतरीन साहित्यिक पुस्तकें सिर्फ आपके लिए- यहाँ क्लिक करें

Views 1
इस पेज का लिंक-
Sponsored
Recommended
Author
शालिनी साहू
Posts 36
Total Views 184

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia