मुलाकात ऐसी हो

Govind Kurmi

रचनाकार- Govind Kurmi

विधा- कविता

खिली चांदनी हो खुला आसमां हो
मिले हमतुम ऐसे की बेसुध जहां हो
🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹
🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀
रंगी फिजायें और चंचल हवायें
हमे देखकर छुपके गुल मुस्कुरायें
🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀
मुस्कुराहट इशारों में नैनों से बातें हों
पलों की नहीं सदियों की मुलाकातें हों
🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹
🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀
धड़कनों की मर्ज़ीयां और वक्त थम जाये
सारी निकाहत आके तेरे दामन में रम जाये
🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹
🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀
दिलों की शरारत और बेकाबू जज्बात हो
काश मेरे रब उनसे ऐसी भी मुलाकात हो
🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀🥀

Views 29
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Govind Kurmi
Posts 38
Total Views 3.1k
गौर के शहर में खबर बन गया हूँ । १लड़की के प्यार में शायर बन गया हूँ ।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia