मुझे रंग दे तू …………………डाल के |गीत | “मनोज कुमार”

मनोज कुमार

रचनाकार- मनोज कुमार

विधा- गीत

मुझे रंग दे तू रंग दे ओ लाल
क हर्बल गुलाल डाल के……………………………..२
तुझे रंग दूँ में रंग दूँ ओ लाल
क हर्बल गुलाल डाल के……………………………..२

आओ नफरत को दूर करें
गले यारों के दिल से मिले
क गिले शिकवे सब भूल के
खुशिओं के रंग घोल घोल के
ओ मीठी बोली बोल बोल के

मुझे रंग दे …………डाल के………….२

मुँह भी गुलाबी हो गईं आँखें गुलाबी
हम भी शराबी हो गये वो भी शराबी
मौसम रंगीन हुआ अम्बर सतरंगी
रंगों में रंग घोल घोल के
सपनों के रंग छोड़ छोड़ के

मुझे रंग दे …………डाल के………….२

अंगिया भिगो दी तूने भीगी चुनरिया
कलियाँ मरोड़ी मोरी चमकी कमरिया
मैं नाचूँ मन नाचे नाचे संवरिया
ओ प्रेम के रंग घोल घोल के
रिश्तों के तार जोड़ जोड़ के

मुझे रंग दे …………डाल के………….२

"सभी मित्रों को होली की हार्दिक शुभकामनायें"

“मनोज कुमार”

Views 15
इस पेज का लिंक-
Sponsored
Recommended
Author
मनोज कुमार
Posts 38
Total Views 392
नाम - मनोज कुमार , जन्म स्थान - बुलंदशहर , उत्तर प्रदेश (भारत) , शिक्षा - एम. एस. सी. ( गणित ) , शिक्षा शास्त्र , EMAIL - MPVERMA85@YAHOO.IN https://manojlyricist.blogspot.in/

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia