मुझे कुछ दिनों की, मोहलत तो दे दो!

Sonika Mishra

रचनाकार- Sonika Mishra

विधा- गज़ल/गीतिका

मुझे कुछ दिनों की, मोहलत तो दे दो!
तुम्हारी गली में, यूं न भटका करुँगी!!

यादों में तेरी खुद को, सताने तो दो!
तुझसे लिपटकर, यूं न रोया करुँगी!!

अभी तो यहाँ पर, दिल जल रहा है!
सोचकर तुम्हे, फिर न पागल बनूँगी!!

किसी रोज हमने, सजाये थे सपने!
सपनों में उनको, अब न देखा करुँगी!!

मोहब्बत थी तुमसे, बगावत न की थी!
सज़ा क्यूँ मिली ऐसी, सोचा करुँगी!!

मुझे कुछ दिनों की, मोहलत तो दे दो!
तुम्हारी गली में, यूं न भटका करुँगी!!

-सोनिका मिश्रा

Sponsored
Views 50
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Sonika Mishra
Posts 27
Total Views 4.5k
मेरे शब्द एक प्रहार हैं, न कोई जीत न कोई हार हैं | डूब गए तो सागर है, तैर लिया तो इतिहास हैं ||

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia