मुझसे रु-ब-रु तो हो

अजय कुमार मिश्र

रचनाकार- अजय कुमार मिश्र

विधा- गज़ल/गीतिका

आए हो मुझसे मिलने तुम मुद्दतों के बाद
दे सकते क्या वक़्त का सौग़ात भी नहीं/

आते ही तुम क्यूँ कह रहे जाने को तो ही
अभी तो हुई है बात की शुरुआत भी नहीं/

थोड़ी देर पास ठहर मुझसे रु-ब-रु तो हो
अभी तो हुई है पूरी ही मुलाक़ात भी नहीं/

बैठे हो मेरे सामने मगर ख़ुद से उलझे हो
करते हो तुम क्यूँ कोई सवालात भी नहीं/

आकर मेरे क़रीब तुम फिर दूर जाते हो
समझते हो तुम क्यूँ मेरी जज़्बात भी नहीं/

छोड़ा है जबसे तूने मुझे बिखरा सा ही हूँ
क्या तुम देख रहे हो मेरे हालात भी नहीं/

रूह में समा मेरे ही क्यूँ इतना दूर हो गए
रखते हो अब तो कोई ताल्लुक़ात भी नहीं/

थम जाते लम्हात तो इस इश्क़ के मर्ज़ में
कटती तो अब मेरी ग़म-ए-रात भी नहीं/

तपता हूँ दिन रात ही विरहा की आँच में
आती है अब तो क्यूँ ये बरसात भी नहीं/

चलता नहीं किसी का दिल पर कोई ज़ोर
रोक सकता तो इश्क़ को ऐहतियात भी नहीं/

अब तो इस उलझन से ही कैसे बचें अजय
बचा सकता अब तो कोई करामात भी नहीं/

Sponsored
Views 45
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
अजय कुमार मिश्र
Posts 31
Total Views 418
रचना क्षेत्र में मेरा पदार्पण अपनी सृजनात्मक क्षमताओं को निखारने के उद्देश्य से हुआ। लेकिन एक लेखक का जुड़ाव जब तक पाठकों से नहीं होगा , तब तक रचना अर्थवान नहीं हो सकती।यहीं से मेरा रचना क्रम स्वयं से संवाद से परिवर्तित होकर सामाजिक संवाद का रूप धारण कर लिया है। कविता , शेर , ग़ज़ल , कहानियाँ , लेख लिखता रहा हूँ।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia