मुझसे बिछड़ के आप ज़रा ग़मज़दा न थे

नीलोफ़र नूर

रचनाकार- नीलोफ़र नूर

विधा- गज़ल/गीतिका

पलकों पे अश्क लब पे भी हर्फ़-ए-दुआ न थे
मुझसे बिछड़ के आप ज़रा ग़मज़दा न थे

मेरी तरह से टूट के बिखरे तो थे मगर
मेरी तरह सिमट के भी सिमटे ज़रा न थे

बेसूद था लिपटना भी दामन से आपके
जब आँख में हम आपकी आंसू नुमा न थे

मैने कभी सफ़र वो गवारा नहीं किया
जिन रास्तों में फूल थे काँटे ज़रा न थे

उसने ये कह के आज मेरे ख़त जला दिये
दिलसोज़ तो बहुत थे मगर ख़ुशनुमा न थे

Views 108
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
नीलोफ़र नूर
Posts 3
Total Views 124
नाम :-आसमा परवीन तखल्लुस:- नीलोफर नूर पता:- ई.एच 20 प्रीत विहार दिल्ली रोड हापुड यौमे पैदाइश:-28/02/1976 उस्ताद मौहतरम:- मनोज बेताब साहब

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
4 comments