मुक्ति (कविता)

Onika Setia

रचनाकार- Onika Setia

विधा- कविता

ऐ मेरे पंछी!,
उड़ जा तू इस,
पिंजरे से ।
ऐ मेरे पथिक,
जा चला जा तू ,
इस किराये के मकान से,
. क्या रखा है यहाँ ?
जो रुका है तूें।
किस आशा से इधर ,
थमा है तू?
यहाँ तुझे कुछ भी,
मिलने वाला नहीं।
दुनिया में कोई तेरा,
क्या !
यह तुच्छ शरीर भी,
तेरा नहीं।
जा उड़ जा,
जा चला जा,
यहाँ तेरा कुछ भी,
तेरा अपना नहीं ।
और जो तेरा अपना नहीं,
उससे मोह कैसा !
कभी तो जाना ही होगा,
तुझे अपने स्वदेश।
इससे पहले के यह जगत,
तुझे भ्रमित कर देे।
तुझे तेरे मालिक से,
दूर कर दे।
तो उचित है यही,
की तू अभी चला जा।
जा चला जा ।

Views 16
इस पेज का लिंक-
Sponsored
Recommended
Author
Onika Setia
Posts 20
Total Views 956
नाम -- सौ .ओनिका सेतिआ "अनु' आयु -- ४७ वर्ष , शिक्षा -- स्नातकोत्तर। विधा -- ग़ज़ल, कविता , लेख , शेर ,मुक्तक, लघु-कथा , कहानी इत्यादि . संप्रति- फेसबुक , लिंक्ड-इन , दैनिक जागरण का जागरण -जंक्शन ब्लॉग, स्वयं द्वारा रचित चेतना ब्लॉग , और समय-समय पर पत्र-पत्रिकाओं हेतु लेखन -कार्य , आकाशवाणी इंदौर केंद्र से कविताओं का प्रसारण .

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia