मुक्तक

Kokila Agarwal

रचनाकार- Kokila Agarwal

विधा- मुक्तक

ज्ञान पिपासा भोले पंछी चुग चुगके सब पान लिया
आत्मसात करके हृदय में पीड़ा को जैसे जान लिया
अक्षर अक्षर में बिंधी पीर थी पंछी ये न जान सके
करूण सुरो में भीगा कलरव पंछी ने दुख ज्ञान लिया।

कोकिला

Sponsored
Views 4
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Kokila Agarwal
Posts 50
Total Views 440
House wife, M. A , B. Ed., Fond of Reading & Writing

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia