मुक्तक

Dr.rajni Agrawal

रचनाकार- Dr.rajni Agrawal

विधा- मुक्तक

मुक्तक
*****

जहाँ इंसान बिकता है वहाँ किसका ठिकाना है।
फ़रेबी बात उल्फ़त में यहाँ करता ज़माना है।
समझ कर कीमती मुझको लगादीं बोलियाँ मेरी-
सिसकती आबरू कहती यही मेरा फ़साना है।

डॉ. रजनी अग्रवाल "वाग्देवी रत्ना"

Views 5
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Dr.rajni Agrawal
Posts 104
Total Views 2.2k
 अध्यापन कार्यरत, आकाशवाणी व दूरदर्शन की अप्रूव्ड स्क्रिप्ट राइटर , निर्देशिका, अभिनेत्री,कवयित्री, संपादिका समाज -सेविका। उपलब्धियाँ- राज्य स्तर पर ओम शिव पुरी द्वारा सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री पुरस्कार, काव्य- मंच पर "ज्ञान भास्कार" सम्मान, "काव्य -रत्न" सम्मान", "काव्य मार्तंड" सम्मान, "पंच रत्न" सम्मान, "कोहिनूर "सम्मान, "मणि" सम्मान  "काव्य- कमल" सम्मान, "रसिक"सम्मान, "ज्ञान- चंद्रिका" सम्मान ,

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia