मुक्तक

Manjusha Srivastava

रचनाकार- Manjusha Srivastava

विधा- मुक्तक

(1)
सुखद परिवर्तन हो जिस रोज
चाँदनी फैलेगी उस रोज
प्रेम ,करुणा , ममता विस्तार
नवल जग रूप सजे उस रोज ||

(2)
ग्यान की लौ का बड़ा महत्व
मुखर हो गहराता देवत्व
ओम का गूंजे अनहद नाद
प्रकट तब हो जाता बुद्धत्व ||

(3)
व्यक्ति में आता एक बदलाव
चरित में होता एक ठहराव
मनुज होता जब प्रबल प्रबुद्ध
प्रकाशित होता हर एक ठाव ||
©®मंजूषा श्रीवास्तव

Sponsored
Views 2
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Manjusha Srivastava
Posts 14
Total Views 102

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia