मुक्तक

Manjusha Srivastava

रचनाकार- Manjusha Srivastava

विधा- मुक्तक

(1)
सुखद परिवर्तन हो जिस रोज
चाँदनी फैलेगी उस रोज
प्रेम ,करुणा , ममता विस्तार
नवल जग रूप सजे उस रोज ||

(2)
ग्यान की लौ का बड़ा महत्व
मुखर हो गहराता देवत्व
ओम का गूंजे अनहद नाद
प्रकट तब हो जाता बुद्धत्व ||

(3)
व्यक्ति में आता एक बदलाव
चरित में होता एक ठहराव
मनुज होता जब प्रबल प्रबुद्ध
प्रकाशित होता हर एक ठाव ||
©®मंजूषा श्रीवास्तव

Views 1
इस पेज का लिंक-
Sponsored
Recommended
Author
Manjusha Srivastava
Posts 11
Total Views 20

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia