मुक्तक

Manjusha Srivastava

रचनाकार- Manjusha Srivastava

विधा- मुक्तक

[ 1 ]
किस सोंच प्रिये तुम बैठी हो ,क्यों अधर कुसुम कुम्हलाए हैं |
यूँ झुकी हुयी पलकें तेरी , अंतर मन को बहलाए हैं |
यूँ बैठी खाली पात्र लिये , चिन्तन रत हो खोयी खोयी |
नल की जल धारप्रबल गिर कर, कल कल कर तुम्हे बुलाए है |
[ 2 ]
कुछ बात करो कुछ तो बोलो ,यूँ गुम – सुम हो मत बैठ प्रिये |
हमदम हमराज बनाया जब, कर दिल से दिल की बात प्रिये |
इक बार नज़र भर कर देखो ,बल सम्बल सब मिल जाएगा –
मैं हूँ तेरा फिर ग़म कैसा , कह डालो अब जज्बात प्रिये ||
©®मंजूषा श्रीवास्तव

Views 2
इस पेज का लिंक-
Sponsored
Recommended
Author
Manjusha Srivastava
Posts 11
Total Views 20

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia