मुक्तक

Neelam Sharma

रचनाकार- Neelam Sharma

विधा- मुक्तक

नहीं आता मुझे किसी के ह्रदय पट को भेदना
आत्मग्लानी बची नहीं कहीं, है खत्म होगई वेदना l
अंतर्मन की शांति ढूंड रहा हर कोई देवालय में
किंतु अपनी त्रूटियों पर क्यों करता कोई खेद ना l

नीलम शर्मा

Views 3
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Neelam Sharma
Posts 213
Total Views 1.8k

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia