मुक्तक –सुनहरा सपना

Sajoo Chaturvedi

रचनाकार- Sajoo Chaturvedi

विधा- कविता

धरा से आतंकियो को मिटा दो।
अहिंसा की ज्योति को जगा दो।
तीर्थयात्री जयकारा लगाते चलें,
त्रिलोकनगरी फूलों से खिला दो।
************
सुगंधितकेशरक्यारियों को महका दो।
झीनीचुनरी नायिकाओं की उड़ा दो।
देवता झुके गायें बर्षा करने लगे,
खगस्वप्नो की उड़ानों से बहका दो।।
सज्जो चतुर्वेदी*****सुनहरा सपना

Views 7
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Sajoo Chaturvedi
Posts 18
Total Views 71

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia