मुक्तक – सावन कजरी

Sajoo Chaturvedi

रचनाकार- Sajoo Chaturvedi

विधा- कविता

आईं सखियाँ गाये कजरी।
बिजुरिया मोती सी चमकी।
पिया ठाड़े दूरहि मुस्काये,
भीजी चुनरिया तनहिं लिपटी।।.
******
मेंहदी रची सखी हँसती।
देखि पिया महकी कहती।
दौड़े आये झूला झूले,
देखि कहती लहकी बहकी ।।.
सज्जो चतुर्वेदी

Sponsored
Views 11
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Sajoo Chaturvedi
Posts 18
Total Views 77

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia