*** मिआं -बीवी की नौक झोक ***

अजीत कुमार तलवार

रचनाकार- अजीत कुमार तलवार "करूणाकर"

विधा- अन्य

तेरी सूरत अब मुझ को अच्छी नहीं लगती ,
क्या खूब लगा करती थी पहले मेरी सजनी ?

वो योवन था आज बुढ़ापा है मेरे साजन,
याद रखना वो सदा नहीं रहती एक जैसी ?

तून चलती अच्छी लगती थी अब क्या हो गयी हो ?
यह देख देख कर बड़ी पुरानी सी लगती हो !

क्या क्या मुझे तुम कहते हो , अपना कभी देखा है
बाल काले वाला लाई थी अब देखो दर्पण कैसे लगते हो ?

बच्चे भी तुम को देख देख कहते हैं मम्मी हो गयी मोटी ,
खाती पीती सब से ज्यादा , और चलाती है हम पर सोटी !

अपना तो देखते नहीं, पेट कितना निकाल कर घूमते हो,
मोहल्ले में सारी सखिया मजाक उड़ाया करती हैं तुम्हारा

चलो छोड़ो अब लडाई न करो सर्दी ज्यादा लग रही है
बनाओ जाकर गाजर का हलवा, वो पुराणी याद आ रही है !

अरे अब तो बख्स दो नौकर कोई रख लो काम वो करेगा
बिमरियन इतनी भर दी हैं कुछ काम अब नहीं होता है !

चलो ठीक है नौकर कौन आएगा तेरे लिया इस काम का
याद नहीं तुझे अब में ही तो बचा हूँ तेरे इस काम का ??

अजीत कुमार तलवार
मेरठ

Views 17
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
अजीत कुमार तलवार
Posts 419
Total Views 6k
शिक्षा : एम्.ए (राजनीति शास्त्र), दवा कंपनी में एकाउंट्स मेनेजर, पूर्वज : अमृतसर से है, और वर्तमान में मेरठ से हूँ, कविता, शायरी, गायन, चित्रकारी की रूचि है , EMAIL : talwarajit3@gmail.com, talwarajeet19620302@gmail.com. Whatsapp and Contact Number ::: 7599235906

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia