~~~~मायाजाल ~~~~

अजीत कुमार तलवार

रचनाकार- अजीत कुमार तलवार "करूणाकर"

विधा- कविता

बहुत नजदीक से देखो
तो समझ आता है सब हाल,
इंसान फसता जा रहा है,
अपनी खुशिओं के लिए
पल पल, माया के जाल में….

सच है, कि इस के बिना
कुछ भी नहीं संभव होगा
पर मकड़जाल में बहुत बन
रहा उसके जी का जंजाल….

कमाने की चिंता में
सब कुछ खोता ही जा रहा
और अपने तन की परवाह के बिना
बुनता ही जा रहा है जाल…..

जिस के लिए कमाता है
वो भी देख रहे उस का हाल
झोक रहा अपना सब कुछ
कर कर के अपनी आँखें लाल….

उसको यह जिन्दगी बड़ी रास आ रही
माँ देख देख बेहाल हो रही
बच्चों ने उस का जीना किया बेहाल
बेटा कहता मुझ को दिला हो कार लाल लाल…

आज कुछ नया, कल लगता पुराना
तृष्णा का हिरण विचलित कर रहा
खो रहा अपनी सारी जवानी
कुछ सोचता नहीं,पर हो रहा बेजार…

अजीत कुमार तलवार
मेरठ

Sponsored
Views 11
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
अजीत कुमार तलवार
Posts 420
Total Views 9.4k
शिक्षा : एम्.ए (राजनीति शास्त्र), दवा कंपनी में एकाउंट्स मेनेजर, पूर्वज : अमृतसर से है, और वर्तमान में मेरठ से हूँ, कविता, शायरी, गायन, चित्रकारी की रूचि है , EMAIL : talwarajit3@gmail.com, talwarajeet19620302@gmail.com. Whatsapp and Contact Number ::: 7599235906

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia