मानसून

arti lohani

रचनाकार- arti lohani

विधा- हाइकु

आयी बरसा।
उदास किसान का ।
मन हरषा ।।

आग का गोला ।
देता है ये जीवन ।
दहके शोला ।।

कुछ हो कम।
सूरज की तपन ।
धरा हो नम ।।

बढ़ती गर्मी ।
कैसी सूरज की है ।
ये हठधर्मी ।।

चढ़ा है पारा ।
जून की तपन का ।
कोई न चारा ।।

आरती लोहनी

Views 3
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
arti lohani
Posts 27
Total Views 689

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia