मानव जीवन

दिनेश एल०

रचनाकार- दिनेश एल० "जैहिंद"

विधा- कविता

मानव जीवन / दिनेश एल० "जैहिंद"

कौन जाना वह जीवन क्यों पाया ।।
इस धरती पर वह क्योंकर आया ।।
यह जीवन तो है एक कठिन प्रश्न,,
मानव कभी इसे सुलझा ना पाया ।।

है जीवन एक रहस्यमयी हवेली ।।
हुआ है जीवन की जीवन सहेली ।।
जीवन से जीवन है यहाँ उजियाया,,
पहला जीवन तो है अभी पहेली ।।

मर गए कितने यहाँ बड़े विज्ञानी ।।
जवाब ना पाए याद आयी नानी ।।
अनबूझ प्रश्न रह गया दुनिया में,,
समझ ना पाए जीवन की कहानी ।।

कोई कहे जीवन काँटों की शय्या ।।
कोई कहे जीवन है तैरती नैय्या ।।
कोई कहे जीवन है एक गुलदस्ता,,
कोई कहे यह जीवन प्रेम है भैय्या ।।

जीवन तो है एक कीमती उपहार ।।
जीवन तो है एक अनमोल प्यार ।।
जीवन तो है एक कड़वी सच्चाई,,
जीवन तो है एक दोधारी तलवार ।।

कोई हँसते-हँसते जिता है इसको ।।
कोई रोते-रोते सहता है इसको ।।
कोई ज़हर खाकर जैसे मर जाए,,
कोई असर नहीं होता है इसको ।।

एक बड़ा पेचीदा सवाल है जीवन ।।
कहीं खिला है तो कहीं डूबा है मन ।।
मन बेमन है कहीं तो कहीं गदगद,,
कहीं दु:खी है तो कहीं है यह प्रसन्न ।।

जीवन की नाहीं है परिभाषा कोई ।।
जीवन में इक आशा व निराशा दूई ।।
जीवन यह उसी का होता है “जैहिंद”,,
जीवन में हिम्मत जिसने भी पिरोई ।।

=== मौलिक ====
दिनेश एल० “जैहिंद”
29. 04. 2017

Sponsored
Views 12
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
दिनेश एल०
Posts 101
Total Views 1.4k
मैं (दिनेश एल० "जैहिंद") ग्राम- जैथर, डाक - मशरक, जिला- छपरा (बिहार) का निवासी हूँ | मेरी शिक्षा-दीक्षा पश्चिम बंगाल में हुई है | विद्यार्थी-जीवन से ही साहित्य में रूचि होने के कारण आगे चलकर साहित्य-लेखन काे अपने जीवन का अंग बना लिया और निरंतर कुछ न कुछ लिखते रहने की एक आदत-सी बन गई | फिर इस तरह से लेखन का एक लम्बा कारवाँ गुजर चुका है | लगभग १० वर्षों तक बतौर गीतकार फिल्मों मे भी संघर्ष कर चुका,,

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia