माँ

राजकिशोर मिश्र 'राज' प्रतापगढ़ी

रचनाकार- राजकिशोर मिश्र 'राज' प्रतापगढ़ी

विधा- दोहे

बिनु माँ के सूनी धरा, सूना है संसार ।
ममता माता से सिखो, कहे राज यह सार ।
माँ की महिमा है अमित , वर्णित वेद पुराण ।
जो नर महिमा नित कहे , होता है कल्याण ।
===============================
मनमंदिर की मूरति माता , तीरथ हैं घर द्वार।
गंगा जमुना सरस्वती जल, संगम प्रिय संसार ।
राजकिशोर मिश्र 'राज' प्रतापगढ़ी

Views 7
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
राजकिशोर मिश्र 'राज' प्रतापगढ़ी
Posts 17
Total Views 145
लेखन शौक शब्द की मणिका पिरो छंद, यति गति अलंकारित भावों से उदभित रसना का माधुर्य भाव मेरा परिचय है-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia