माँ ……

वेदप्रकाश रौशन

रचनाकार- वेदप्रकाश रौशन

विधा- कविता

माँ…
माँ जीवन का आगाज़ है,
माँ एक जीने का अंदाज़ है|
माँ…
माँ अपनेपन की आवाज़ है,
माँ आनंद की आभास है|
माँ…
माँ प्रेम भी है माँ स्नेह भी है,
माँ तपते हुए लोहे की देह भी है|
माँ…
माँ है तो प्यार है,
माँ है तो एक मीठी सी मार है|
माँ…
माँ है तो दही गुड़ की कटोरी है,
माँ से ही रातों की लोरी है|
माँ…
माँ भूत, भविष्य, वर्तमान है,
माँ मेरी धरा और आसमान है|
माँ…
माँ सपनो की आस है,
माँ मेरी हर सांस है|
माँ…
माँ एक दिव्य दमक है,
माँ से ही चेहरे पर चमक है।
माँ….
माँ वो अभिन्न अंग है,
जो हर वक़्त बच्चों के संग है|
माँ…
माँ से ही प्रीत है,
माँ मीठी सी एक गीत है|
माँ…
माँ एक मधुर मुस्कान है,
माँ मेरी हर एक उड़ान है|
माँ…
माँ हैं तो न कोईं गम है,
माँ हर मर्म की मरहम है|
माँ…
माँ प्रसन्नता की द्वार है,
माँ ही जीवन का उद्धार है|
माँ…
माँ ईश्वर की देन है,
माँ ही हर सुख चैन है|
माँ…
माँ ही अमानत है,
माँ ही मेरी मन्नत और जन्नत है|
माँ…
माँ कर्मों का फल है,
माँ के पास हर कष्टों का हल है|
माँ…
माँ जिंदगी है,
माँ वंदगी है|
माँ…
माँ ही तो पूजा है,
माँ के बिना न कुछ दूजा है|
माँ…
माँ शक्ति है, माँ भक्ति है,
माँ से ही तो आशक्ति है|
माँ…
माँ ही करुणा है,
माँ नही तो ये जग सूना है||

-वेदप्रकाश रौशन

Sponsored
Views 68
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
वेदप्रकाश रौशन
Posts 4
Total Views 195
हिंदी का उपासक, सहित्य प्रेमी । सांस्कृतिक बचाव के लिए एक छुपा हुआ छोटा सा कलम का पूजारी । विभिन्न विधाओं में रूचि के अनुसार लेखन करता हूँ । लेख तथा कहानी विशेष तौर से लिखना पसंद करता हूँ ।।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia