माँ बाप और पैसा

Harsh Lahoti

रचनाकार- Harsh Lahoti

विधा- कविता

मेरे बेटे तूने पैसा खूब कमाया पर
तेरा यह पैसा किसी काम नहीं आया

जो तू अपनी पालनहार को पाल नहीं पाया
अपने मां-बाप को तू आश्रम छोड़ आया

मैंने अपनी उदर में तुझे पनाह दी थी तू मुझे एक छत तक नसीब नहीं करा पाया

जिस पिता ने उंगली पकड़ तुझे चलना सिखाया
तू उसके बुढ़ापे की लाठी तक ना बन पाया

तेरी भूख पर अपना निवाला भूल कर मैंने तुझे खाना खिलाया
तु मुझे दो वक्त की रोटी तक ना नसीब करा पाया

तेरा शौक पूरा करने जिस पिता ने कर्ज लेकर तुझ पर लाखो खर्च किए तू उसके दवा का बिल भी चुकाना पाया

धूप में जिस आंचल की छाव ली थी तूने
उस आंचल से तूने उसका घर भी छुड़वाया

जिस पिता के कंधे पर तू ने दुनिया देखी थी
तू उसे दवाखाने तक मैं ले जाना पाया

तेरी हर चोट से निकले खून देख जीन के आंसू आ जाया करते थे
तूने उन्हें बुढ़ापे में खून के आंसू रुलाया

मेरे बेटे तूने पैसा खूब कमाया पर
तेरा यह पैसा किसी काम नहीं आया

✍🏻 हर्ष लाहोटी (बस्तर) 9589333342

Views 14
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Harsh Lahoti
Posts 2
Total Views 17

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia