माँ दुर्गा-वंदना

आनंद बिहारी

रचनाकार- आनंद बिहारी

विधा- गीत

माँ दुर्गा-वंदना

तेरी चरणों में दुर्गेश्वरी हम आ गए
तेरी शरण में परमेश्वरी हम आ गए…

हमें ज्ञान दो, स्वाभिमान दो, वरदान दो
भाविनी, भवमोचनी, भवप्रीता गल-गान दो
मातेश्वरी, सुरेश्वरी, ऐन्द्री हम आ गए…

हमें वाणी ऐसी दो कि जग-कल्याण हो
हमें बुद्धि ऐसी दो कि सच का ज्ञान हो
वैष्णवी, सुरसुन्दरी, मातंगी हम आ गए…

शक्ति मिले, भक्ति मिले कल्याण-कारी
हे देवमाता, महातपा, महाबला, महोदरी
बुद्धिदा, चामुंडा, सर्वेश्वरी हम आ गए…

– आनंद बिहारी, चंडीगढ़

Sponsored
Views 359
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
आनंद बिहारी
Posts 25
Total Views 6.3k
गीत-ग़ज़लकार by Passion नाम: आनंद कुमार तिवारी सम्मान: विश्व हिंदी रचनाकार मंच से "काव्यश्री" सम्मान जन्म: 10 जुलाई 1976 को सारण (अब सिवान), बिहार में शिक्षा: B A (Hons), CAIIB (Financial Advising) लेखन विधा: गीत-गज़लें, Creative Writing etc प्रकाशन: रचनाएँ विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित FB/Tweeter Page: @anandbiharilive Whatsapp: 9878115857

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
7 comments
  1. Maa Saraswati has endowed Sh. Anand Bihari with superlative capabilities and a very high level of expression in the language understood by majority of Indians. This prayer to the Supreme mother, is an addition to the existing creative works, bearing his signature. May Maa bless his writings & him.

  2. अम्बे अम्बिके अम्बालिके ,न मा नयति कश्चन् ।
    ससत्यःश्रवकः सुभद्रिकाम् काम्पील वासिनीम् ।।