माँ तेरे प्रेम की मुझको धारा मिले

Nitin Sharma

रचनाकार- Nitin Sharma

विधा- गज़ल/गीतिका

माँ तेरे प्रेम की मुझको धारा मिले
फिर मेरी जिंदगी को किनारा मिले १

जिंदगी भी मुझे दर्द देती रही
माँ तेरी गोद का अब सहारा मिले २

अब मुझे याद आता है बचपन मेरा
काश बचपन मुझे अब दुबारा मिले ३

फ़िक्र मुझको नही है जमाने की अब
माँ मुझे प्रेम बस एक तुम्हारा मिले ४

तीर्थ है सारे चरणों में माँ बाप के
इस जहाँ में न ऐसा शिवाला मिले ५

चाह मुझ को नही चाँद तारों की अब
टूटता ही सही एक तारा मिले ६

तीरगी से बहुत लड़ लिए ये ख़ुदा
अब अँधेरे सफ़र में उजाला मिले ७

प्यार से अब मुझे पास अपने बिठा
बस तेरे हाथ से एक निवाला मिले ८

जन्म मुझको मिले बस तेरी गोद में
प्यार तुमसे मुझे ढ़ेर सारा मिले ९

गोद तेरी मिले हर जनम में मुझे
गोद में जन्म मुझको दुबारा मिले १०

जिंदगानी फ़कत चार दिन की नितिन
मंजिले दूर है एक ठिकाना मिले ११

Views 50
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Nitin Sharma
Posts 58
Total Views 885
नितिन शर्मा , इटावा कोटा ( राजस्थान ) - ग़ज़ल /मुक्तक लेखन मोबाइल - 9784824274

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia