माँ मेरी मंदिर भी मस्जिद, माँ ही गिरजाघर लगे……माँ के कदमों में मेरे तो देख चारों धाम है

लोधी डॉ. आशा 'अदिति'

रचनाकार- लोधी डॉ. आशा 'अदिति'

विधा- गज़ल/गीतिका

अब नहीं मुझको पता दिन है भला या शाम है
आदमी देखो यहाँ हर दूसरा गुमनाम है

काम जो करता रहा उस पर उठी ये उंगलियाँ
जो कसीदे झूठ के पढ़ता उसी का नाम है

आजकल बस झूठ के चलने लगे हैं दौर यूँ
राह सच्ची जो चला वो आदमी बदनाम है

बेवजह हर आदमी अब बैर है रखने लगा
हर तरफ देखो यहाँ क्यूँ कर मचा कुहराम है

देख दिन फिर एक बीता जागती इक रात है
चाँद बनकर डाकिया लाता नहीं पैगाम है

माँ मेरी मंदिर भी मस्जिद, माँ ही गिरजाघर लगे
माँ के कदमों में मेरे तो देख चारों धाम है

लोधी डॉ. आशा 'अदिति'
बैतूल

Sponsored
Views 73
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
लोधी डॉ. आशा 'अदिति'
Posts 68
Total Views 10.2k
मध्यप्रदेश में सहायक संचालक...आई आई टी रुड़की से पी एच डी...अपने आसपास जो देखती हूँ, जो महसूस करती हूँ उसे कलम के द्वारा अभिव्यक्त करने की कोशिश करती हूँ...पूर्व में 'अदिति कैलाश' उपनाम से भी विचारों की अभिव्यक्ति....

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia